भिंड में प्यून बना एक दिन का अफसर, दफ्तर में गंदगी करने वालों की एंट्री पर लगाई रोक

<p>भिंड में प्यून बना एक दिन का अफसर, दफ्तर में गंदगी करने वालों की एंट्री पर लगाई रोक</p>

भिंड में शिक्षा विभाग के दफ्तर में अनिल कपूर की नायक फिल्म जैसा नज़ारा देखने को मिला। जिस तरह फिल्म में अनिल कपूर को एक दिन का मुख्यमंत्री बनाया गया था उसी तरह यहाँ के शिक्षा विभाग दफ्तर में काम करने वाले प्यून को एक दिन का ब्लॉक एजुकेशन ऑफिसर (BEO) बनाया गया। बीईओ की कुर्सी संभालते ही इस चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी ने दफ्तर में पान-गुटखा खाकर आने वाले लोगों की एंट्री पर बैन लगा दिया, साथ ही पान-गुटखा थूकने वालों के खिलाफ 200 रु. जुर्माना लगाने का आदेश निकाला। दरअसल शिक्षा विभाग के बीईओ सुदामा सिंह भदौरिया ने 'एक दिन का बीईओ का चार्ज दफ्तर के चपरासी रमेश श्रीवास को सौंपा था। यह प्रभार सौंपने से पहले ब्लॉक एजुकेशन ऑफिसर ने जिला शिक्षा अधिकारी से परमिशन भी ली थी। ब्लॉक एजुकेशन ऑफिसर का एक दिन का प्रभार मिलने पर रमेश श्रीवास ने सबसे पहले सीएम राइज स्कूल का निरीक्षण किया। यहां टीचर्स की उपस्थिति से लेकर छात्र संख्या आदि का रिकॉर्ड मांगा।   निरीक्षण के बाद दफ्तर आकर प्रभारी बीईओ श्रीवास ने सफाई बनाए रखने को लेकर नया आदेश जारी किया। उन्होंने दफ्तर के अंदर पान, तंबाकू, गुटका खाने और बीड़ी-सिगरेट पीकर गंदगी फैलाने वालों पर शिकंजा कसा। उन्होंने ऐसा करने वालों की कार्यालय में एंट्री पर रोक लगाई, साथ ही पान-गुटखा थूकने वालों के खिलाफ ₹200 का जुर्माना लगाने का नोटिस चस्पा कराया। यह आदेश देख दफ्तर में मौजूद सीनियर से लेकर जूनियर सभी कर्मचारी हैरान रह गए। BEO सुदामा सिंह भदौरिया के अनुसार यह सब कुछ दफ्तर के अंदर अफसर, क्लर्क और चपरासी के बीच समानता का भाव लाने के लिए किया गया।वहीं एक दिन के लिए ब्लॉक एजुकेशन ऑफिसर का प्रभार मिलने के बाद श्रीवास खुशी से गदगद दिखे। उन्होंने सभी वरिष्ठ अफसरों का आभार व्यक्त किया।