माई ट्रैफिक माई सेफ्टी एप ग्वालियर से लॉन्चः अब क्यूआर कोड स्कैन कर एक क्लिक पर पुलिस के पास पहुंचेगी अपराधी की डिटेल

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा- मानसिक विकृत लोगों में भय पैदा करेगा एप

<p><strong>माई ट्रैफिक माई सेफ्टी एप ग्वालियर से लॉन्चः</strong> अब क्यूआर कोड स्कैन कर एक क्लिक पर पुलिस के पास पहुंचेगी अपराधी की डिटेल</p>

ग्वालियर. शहर में ट्रैफिक के लिहाज और छात्राओं, युवतियो, महिलाओं को सुरक्षित माहौल देने की सोच के साथ माई ट्रैफिक माई सेफ्टी एप लॉन्च किया गया है। एमपी में ग्वालियर से यह एप शुरू किया जा रहा है। यदि यह सफल होता है तो इसे पूरे प्रदेश में लागू किया जाएगा। यह बात एप का लोकार्पण करते समय प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कही है। उनका कहना है कि यह एप बेटियों को तो सुरक्षित रखेगा ही, साथ ही मानसिक रूप से विकृत लोगों में भय पैदा करेगा। शहर के 3 हजार से ज्यादा ऑटो के रजिस्ट्रेशन कर इस एप के क्यूआर कोड को चस्पा कर दिया गया है। जैसे कोई छात्रा ऑटो में सफर कर रही है, उसे किसी की हरकत संदिग्ध लगती है तो उसे कुछ नहीं करना है। एप पर एक सेफ्टी बटन को क्लिक करना है। साथ ही क्यूआर कोड को स्कैन करना है। जहां वह होगी परिजन और पुलिस को उसकी जानकारी मिल जाएगी।

ऑटो पर चस्पा होगा क्यूआर कोड, एप से महिलाओं की मदद कर सकेगी पुलिस
शहर में सुरक्षित माहौल और यातायात व्यवस्था को व्यवस्थित करने के लिए पुलिस विभाग ने एप लॉन्च किया है। पुलिस की आईटी टीम ने इसे बनाया है। इसमें कई फीचर हैं, जो आगे चलकर काफी सार्थक सिद्ध हो सकते हैं। रविवार को इस एप का लोकार्पण कार्यक्रम पुलिस अधीक्षक कार्यालय में प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा के आतिथ्य में हुआ। एप का लोकार्पण करने से पहले आईजी अविनाश शर्मा ने इस एप के बारे में जानकारी दी। डीआईजी राजेश हिंगणकर व एसपी ग्वालियर अमित सांघी ने बताया कि ग्वालियर जिले में 3 हजार ऑटो का रजिस्ट्रेशन कर उन पर क्यूआर कोड लगा दिए गए हैं। जल्द ही सभी ऑटो, टेंपो व अन्य टैक्सी इसकी जद में आ जाएंगे। कोई भी घटना होने पर तत्काल ही पता चल जाएगा कि छात्रा या महिला किस वाहन में सवार थी और उसकी पूरी जानकारी होने पर पुलिस जल्द ही संबंधित वाहन मालिक के पास पहुंचकर उचित कार्रवाई करेगी। ट्रैफिक पुलिस सिर्फ क्यूआर कोड़ स्कैन करने से संबंधित वाहन के खिलाफ प्रभावी कार्रवाई करेंगी।