अब रहेगा ईवीएम की टेस्टिंग-ट्रेनिंग पर फोकस, 55 केंद्रों पर नाम जोड़ने-हटाने के ज्यादा फॉर्म जमा

<p><span>अब रहेगा ईवीएम की टेस्टिंग-ट्रेनिंग पर फोकस, 55 केंद्रों पर नाम जोड़ने-हटाने के ज्यादा फॉर्म जमा</span></p>

वोटर लिस्ट के पुनरीक्षण के दौरान 55 पोलिंग पर नाम जोड़ने और काटने के फॉर्म उम्मीद से ज्यादा मिले हैं। इसलिए संभाग आयुक्त ने अब हर विधानसभा में ऐसे 20-20 पोलिंग की जांच कर रिपोर्ट मांगी है। संभाग आयुक्त दीपक सिंह ने गुरुवार को चुनावी काम में लगे अधिकारियों व विभिन्न राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों की बैठक में कहा कि इस बार चुनाव ट्रेनिंग पर अधिक फोकस रखा जाए। पार्टी नेताओं से आयुक्त ने कहा कि छोटी-छोटी बातों पर विवाद की स्थिति न बनने दें।

पुनरीक्षण के आंकड़ों के आधार पर यह बात सामने आई कि छह विधानसभा में 37 मतदान केंद्र ऐसे हैं जहां पर नए नाम जोड़ने के फॉर्म 100 से 281 तक आए हैं। शहर में ऐसे केंद्र बड़ागांव, केंटोनमेंट, बरा, गोले का मंदिर, झांसी रोड, गुढ़ा आदि क्षेत्र में हैं। ऐसे ही 18 मतदान केंद्रों पर नाम काटने वाले फॉर्म 100 से 495 तक हैं। इनमें बड़ागांव, बजरंगपुरा, जिगसौली, जीवाजीगंज, शब्द प्रताप आश्रम, डीडी नगर और शास्त्री नगर क्षेत्र के पोलिंग शामिल हैं। जमा हुए फॉर्म की उक्त संख्या सामान्य से अधिक होने के कारण ही जांच की जाएगी। आयुक्त ने इसकी जांच के भी निर्देश निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारियों को दिए।